भारतीय सिनेमा मनोरंजन का एक बहुत ही अच्छा साधन है. भारत की फिल्म इंडस्ट्री दूसरे देशों की फिल्म इंडस्ट्री से बहुत सी बातों में अलग है.भारत में हर हफ्ते  चार से पांच फिल्में रिलीज होती ही है |भारत में बॉलीवुड के अलावा टॉलीवुड ,कॉलीवुड ओर ना जाने क्या क्या हैं. जब आप भारत में कभी मूवी देखने गए होगे तो मूवी के बीच में एक ब्रेक लिया जाता है जिसको इंटरवेल या इंटर मिशन भी कहते है.दरअसल विदेशो में यह इंटरवल नहीं होता है इसलिए उन लोगो को ये बात बहुत ही अजीब और हैरान करने वाली लगती है की भारत में ऐसा आखिर क्यों किया जाता है .तो Storiesfeed  अब आपको बताना चाहती है  कि भारत में आखिर ऐसा होने के पीछे क्या वजह है..

भारतीय सिनेमा हॉल में इंटरवल क्यों होता है जानिए इसकी वजह....

आपको बता दे की सभी फिल्मे भारत में इंटरवेल के साथ बनती है लेकिन जो फ़िल्म इंटर मिशन के साथ में नहीं भी बनती तब भी उन फिल्मो को बीच में रोक कर 10 से 15 मिनट का ब्रेक या अन्तराल लिया जाता है. इसके पीछे कोई वजह नहीं है लेकिन इसके पीछे एक कारण भी छुपा है. जो सुनने में बहुत अलग है शायद आप भी इसे सुनने के बाद हैरान हो जाएं. इस इंटरवल को किए जाने का सबसे मुख्य कारण यह है की भारतीय फिल्मों की समय सीमा हॉलीवुड मूवी के  मुकाबले बहुत ज्यादा होता है. तो यह बात साफ है कि दर्शको को थोडा सा समय या ब्रेक दिया जाये जिससे वो अपने आप को तरोताज़ा और अच्छा महसूस कर सकें और पहले के समय में यह इस वजह से किया जाता था की फिल्म के दरअसल दो रोल होते थे जिनको बदलने के लिए  थोडा सा समय लगता था..

अगले पेज पे क्लिक कीजिये और जानिए बॉलीवुड की एक मात्र ऐसी मूवी है जिसमे इंटरवल नहीं है—


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

LOL LOL
0
LOL
Wow Wow
0
Wow
Sad Sad
0
Sad
Cool Cool
0
Cool
Love Love
0
Love
Funny Funny
0
Funny
Rishabh Porwal
Specialized Web Developer,Search Engine Optimization Strategist & Digital Storyteller.In love with blogging and the world of SEO! .A writer in day and the reader in Night.

One Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  1. What an information!!!
    We never thought..we were given interval to buy some colddrink and popcorns.. 😂😂